Skip to main content

आंचल गंगवाल उड़ाएंगी भारतीय वायुसेना का फाइटर प्लेन

पिता ने चाय बेचकर कराया बेटी आंचल गंगवाल का सपना पूरा ।

नीमच, मध्य प्रदेश में रहने वाली आंचल गंगवाल का भारतीय वायुसेना की उड़ान शाखा में चयन हो गया है इससे उनके परिवार में हर्ष का माहौल है साथ ही इससे उन्होंने पूरे खटीक समाज का नाम रौशन कर दिया है।
आंचल के पिता सुरेश गंगवाल नीमच बस अड्डे पर चाय की दुकान चलाकर परिवार का पेट पालते हैं और बेटी की इस उपलब्धि से बहुत ही गर्व महसूस कर रहे हैं ।
सुरेश ने कहा कि मुझे अच्छा लगता है जब लोग मेरे पास आकर के मुझे मेरी बेटी की कामयाबी के लिए बधाई देते हैं।  सुरेश ने कहा उन्होंने कभी भी अपनी आर्थिक तंगी को अपने तीनों बच्चों की पढ़ाई में बाधा नहीं बनने दिया।
सुरेश ने बताया कि इंदौर में आंचल की कोचिंग और अपने बड़े बेटे की इंजीनियरिंग के लिए लोन लेना पड़ा। बता दे कि सुरेश की तीसरी लड़की अभी 12वीं कक्षा में पढ़ती है। 
उनके चयन का परिणाम बीते 7 जून को आया था लेकिन मीडिया में आंचल गंगवाल की खबर तब वायरल हुई जब उनकी पारिवारिक स्थिति और पिता सुरेश गंगवाल की चाय की दुकान के बारे में पता चला।
अपनी इस कामयाबी से गदगद आंचल बेहद ही खुश है। आंचल ने बताया कि वह साल 2013 में उत्तराखंड में आई आपदा में भारतीय सेना द्वारा बचाव कार्य से इतनी प्रभावित हुई कि उसने भी तभी सेना में जाने का मन बना लिया था।
MP: Aanchal Gangwal,a tea seller's daughter,makes it to flying branch of Air Force, being the only candidate from MP to clear the admn test for the yr. Says, 'When I was in class 12 I was inspired with Armed Forces' rescue ops during Uttarakhand flood. So decided to join defence. pic.twitter.com/xVKheOfcZ0
— ANI (@ANI) June 23, 2018आंचल बताती है कि जिस समय उत्तराखंड में भीषड़ आपदा आई थी। उस समय वह 12वीं कक्षा में पढ़ती थी। आंचल ने कहा कि उस आपदा के दौरान सेना के बचाव कार्य ने उसे काफी प्रभावित किया और उसे भी सेना में भर्ती होने के लिए प्रेरित किया।
लेकिन उस समय मेरे परिवार की आर्थिक स्थति कुछ अच्छी नहीं थी। आंचल ने बताया कि उसके लिए एयरफोर्स कॉमन एडमिशन टेस्ट पास करना कोई आसान काम नहीं था। बीते सालों में उसने बोर्ड द्वारा आयोजित पांच इंटरव्यू में हिस्सा लिया और छठी बार जाकर उसे सफलता मिली।
आंचल की ट्रेनिंग 30 जून से शुरू होगी और उनका भारतीय वायु सेना का फाइटर प्लेन उड़ाने का सपना पूरा हो जाएगा। आंचल ने जिस प्रकार और जिन परिस्थितियों में आत्मविश्वास बनाए रखते हुए सफलता हासिल की है वह देश की करोड़ों बेटियों के लिए प्रेरणादायक है।
उनकी सफलता इसलिए भी बड़ी है क्योंकि जिस परीक्षा से होकर वह गुजरी हैं उसके लिए देशभर से 6 लाख से ज्यादा आवेदन किए गए थे और महज 22 लोगों का चयन किया गया है । आंचल गंगवाल उन्हीं 22 लोगों में से हैं और मध्य प्रदेश से अकेली चयन पाने वाली हैं।

Comments

Popular posts from this blog

सेना में "खटीक रेजिमेंट" भी होना चाहिए - खटीक महासंघ

जब यादव समाज के लोग सेना में "अहीर रेजिमेंट" बनाने के लिए सरकार पर दबाव बना सकते हैं तो खटीक पीछे क्यों रहें। खटीक भी योद्धा थे यहां तक कि खटीक तो सूर्यवंशी क्षत्रिय भी माने जाते हैं तो क्यों ना खटीक समाज भी सेना में "खटीक रेजिमेंट" की मांग करें। अगर सरकार जाति आधारित रेजिमेंट नहीं दे सकती तो मौजूदा जितनी भी जाति आधारित रेजिमेंट बनी हुई हैं उनको तुरन्त समाप्त किया जाए।

मेरे हिसाब से तो जाति आधारित रेजिमेंट होनी ही नहीं चाहिये क्योंकि इससे ऊंची जातियों में घमंड की भावना आती है जिससे छुआछूत को बढ़ावा मिलता है। अच्छा तो यही होगा कि सरकार को जाट रेजिमेंट, राजपूत रेजिमेंट आदि को खत्म कर देना चाहिए। अगर सरकार इनके दबाव के कारण इनको खत्म नहीं कर पा रही है तो खटीक रेजिमेंट भी होनी ही चाहिए।

सेना में “राजपूत रेजिमेंट” है तो फिर “चमार, खटिक रेजिमेंट” क्यों नहीं- उदित राज

नई दिल्ली। लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान भारतीय जनता पार्टी के सांसद उदित राज ने सरकार से सवाल किया कि जब भारतीय सेना में राजपूत रेजिमेंट हो सकता है तो चमार रेजिमेंट, खटिक रेजिमेंट और वाल्मीकि रेजिडेंट क्यों नहीं हो सकता है। उदित राज ने कहा कि चमार रेजिंडेंट का खत्म कर दिया गया था। इसके पीछे तर्क दिया गया था कि जाति के आधार पर रेजिमेंट नहीं बना सकते हैं, तो फिर सरकार ये बताए कि जाति के आधार पर राजपूत रेजिमेंट क्यों है। उन्होंने कहा कि चमार, खटिक और वाल्मीकि रेजिमेंट बनाया जाना चाहिए।

खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति का गौरवशाली इतिहास

हिन्दू खटीक समाज के इतिहास को लेकर अनेक प्रकार की बातें कही जाती हैं। कुछ समाज चिंतकों के अनुसार खटीक जाति क्षत्रिय जाति है तो तो कुछ खटीकों को दलित जाति मानते हैं। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से खटीक समाज के इतिहास सम्बन्धी तथ्यों पर प्रकाश डालेंगे।
खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति के गोत्र (सरनेम)
कौन हैं खटीक?खटीक भारत का एक मूल समुदाय यानि जाति है जो वर्तमान में अनुसूचित जाति के अंतर्गत वर्गीकृत की गई है। जिनकी संख्या लगभग 1.7 मिलियन है। भारत में यह उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़, पश्चिम बंगाल, बिहार और गुजरात में बसे हुए हैं। तथा व्यापक रूप से उत्तर भारत में बसा हुआ है।
प्रत्येक खटीक उपजाति का अपना मूल मिथक है, वे ऐतिहासिक रूप से क्षत्रिय थे जिन्हें राजाओं द्वारा यज्ञ में पशुओं की बलि करने का कार्य सौंपा गया था। आज भी हिंदू मंदिरों में बलि के दौरान जानवरों को वध करने का अधिकार केवल खटीकों को ही है।

खटीक समाज की पुस्तक  खटीक जाति - आखेटक  प्राप्त करें। 

खटीक समाज की एक परंपरा के अनुसार खटिक शब्द का उद्गम हिंदी …