Skip to main content

खटीक महासंघ संस्थाओं के नाम

खटीक समाज की अनेक संस्थाएं बनी हुई हैं और अलग थलग होकर कार्य कर रही हैं इसलिए समाज को संगठित करने के लिए संस्थाओं का एकजुट होना परम आवश्यक है।


खटीक महासंघ का मुख्य उद्देश्य है खटीक समाज की समस्त संस्थाओं को एकजुट करना।

खटीक महासंघ संस्थाओं के नाम इस प्रकार हैं।


अखिल भारतीय खटीक समाज (रजि.N-441)

रजिस्ट्रेशन संख्या N-441
पंजीकृत प्रधान कार्यालय: शास्त्री नगर, जी.टी. रोड़ चांदपुर, पोस्ट – इंडस्ट्रियल स्टेट, वाराणसी, उत्तर प्रदेश
संपर्क सूत्र : 9935064509, 8090953599
Mail: [email protected]

राष्ट्रीय कमेटी सदस्य

श्री सज्जन सिंह वर्मा – (पूर्व सांसद) राष्ट्रीय अध्यक्ष
नेतिकार प्रेमलाल – मुख्य राष्ट्रीय संरक्षक
अशोक सोनकर – राष्ट्रीय संरक्षक
अनिल सोनकर शास्त्री – प्रधान राष्ट्रीय महासचिव
विजय कुमार सांखला – राष्ट्रीय अध्यक्ष युवा
बंसी सिंह पहाड़िया – राष्ट्रीय महासचिव (पूर्व विधायक – खुर्जा)
धर्मेंद्र असोलिया – राष्ट्रीय महासचिव संगठन

प्रदेशाध्यक्ष

उत्तर प्रदेश – जसवंत सोनकर – प्रदेशाध्यक्ष
उत्तर प्रदेश – अमित कुमार सोनकर – प्रदेशाध्यक्ष युवा प्रकोष्ठ
राजस्थान – हरजेश नराणिया – प्रदेशाध्यक्ष
राजस्थान – त्रिलोक बड़गुजर – प्रदेशाध्यक्ष युवा प्रकोष्ठ,
महाराष्ट्र – संजय घोलप – प्रदेशाध्यक्ष
आंध्र प्रदेश – ए प्रताप – प्रदेशाध्यक्ष
तेलंगाना – जी नरसिंघ राव – प्रदेशाध्यक्ष
पश्चिम बंगाल – काली खटीक – प्रदेशाध्यक्ष
दिल्ली – हेमराज बैमाड – प्रदेशाध्यक्ष
हरियाणा – पूर्णचंद पंवार – प्रदेशाध्यक्ष
उड़ीसा – प्रदीप चांडी – प्रदेशाध्यक्ष

अखिल भारतीय खटीक समाज

रजिस्ट्रेशन संख्या S-31375/1997
पंजीकृत प्रधान कार्यालय : 184, D.D.A. FLAT, विशाल एनक्लेव, नई दिल्ली-110027
फोन नम्बर : 09212003162, 09414089226;  email:- [email protected]*

राष्ट्रीय कमेटी सदस्य

श्री मुंशी रामपाल जी – राष्ट्रीय अध्यक्ष (पूर्व सांसद)
श्री सिप्पी महेंद्रा – राष्ट्रीय प्रधान महासचिव
मामचंद रेवाडिया – मुख्य राष्ट्रीय संरक्षक
राजेश सोनकर – राष्ट्रीय अध्यक्ष युवा
श्रीमती लता गंगवाल – राष्ट्रीय अध्यक्षा महिला प्रकोष्ठ

प्रदेशाध्यक्ष

राजस्थान – श्री ओपी महिंद्रा – (विधायक-केसरीसिंघपुर, राजस्थान)
राजस्थान – संजय चंदेल – प्रदेशाध्यक्ष युवा
राजस्थान – श्रीमती सुशीला बुंदेला – प्रदेश अध्यक्षा महिला प्रकोष्ठ
तेलंगाना – श्री श्रीनिवास मुसरीकर
आंध्र प्रदेश – श्री ए के एम् लक्ष्मण राव
गोवा – श्री शिव प्रसाद सोनकर
कर्नाटक – श्री येलो जी राव खटीक और
छत्तीसगढ़  – श्री नरेन्द्र बोलर खटीक

अखिल भारतीय खटीक महासभा

राकेश जौहरी (राष्ट्रीय अध्यक्ष)

खटीक समाज ई संस्था

पंजीकृत प्रधान कार्यालय : R-714 ज्वालापुरी, दिल्ली
विजय बडगुजर – राष्ट्रीय अध्यक्ष

खटीक सेना 

राष्ट्रीय कमेटी सदस्य

संजय राज खटीक – राष्ट्रीय अध्यक्ष
इंद्रेश चंद खटीक – राष्ट्रीय महासचिव – 9454786321

आल इंडिया खटीक फेडरेशन 

पंजीकृत प्रधान कार्यालय : JC 33E, Hari Enclave, Hari Nagar, Delhi-110064
श्री नेतराम ठगेला (राष्ट्रीय अध्यक्ष) – 9868008740, 8743008740

खटीक यूनियन ऑफ़ नेशन

पंजीकृत प्रधान कार्यालय : F-9/C, DDA Flats, Munirka, New Delhi-110067
9415030011, 8318731912

खटीक समाज सामूहिक विवाह समिति

Address: A-II, 171, MADANGIR, New Delhi, Delhi 110062
Phone: 081309 43303

खटीक समाज दीनबंधु सेवा ट्रस्ट वडोदरा


राष्ट्रवादी खटीक विकास समिति

कार्यालय : लखनऊ, उत्तर प्रदेश
श्री एस एन चक – राष्ट्रीय अध्यक्ष (पूर्व डीजीपी उत्तर प्रदेश पुलिस)

आरेकतिका पोरता समिति

कार्यालय : सिकंदराबाद, हैदराबाद

पूज्य सिंध कलाल नवयुवक मंडल


सूर्यवंशी फाउंडेशन

पंजीकृत कार्यालय : सी – 45, मुकुंद विहार, करावल नगर, दिल्ली 110094

राष्ट्रीय कमेटी सदस्य

श्री काली चरन – राष्ट्रीय अध्यक्ष – 9313350434
ऋषि पाल सिंह – संस्थापक – 9868727078
नरेश कुमार – कोषाध्यक्ष – 9212581760
रविंद्र सूर्य प्रताप सिंह – महासचिव – 9911680005
हरी सिंह चौहान – उपाध्यक्ष संगठन मंत्री – 9810683228

खटीक समाज सेवा समिति गोपाल पुरा जयपुर

किशोरी लाल जी – अध्यक्ष

दिल्ली प्रदेश खटीक पंचायत समिति

Address: Shop No.10648, Chaudhary Nand Lal Marg, Partap Nagar, Gulabi Bagh, New Delhi, Delhi 110007
Phone: 098113 90423

खटीक छात्रावास एवं धर्मशाला निर्माण समिति


दिल्ली प्रदेश खटीक समाज


संत श्री दुर्बलनाथ समिति

ई 23/24, बुद्ध नगर, इंद्रपुरी, नई दिल्ली – 110012
9650123386, 9873067066

अपनी जानकारी अपडेट करवाने के लिए कृपया सुनील बुटोलिया जी से 8802344330 पर संपर्क करें। किसी प्रकार की त्रुटि के लिए हम जिम्मेदार नहीं होंगे।

Comments

Popular posts from this blog

सेना में "खटीक रेजिमेंट" भी होना चाहिए - खटीक महासंघ

जब यादव समाज के लोग सेना में "अहीर रेजिमेंट" बनाने के लिए सरकार पर दबाव बना सकते हैं तो खटीक पीछे क्यों रहें। खटीक भी योद्धा थे यहां तक कि खटीक तो सूर्यवंशी क्षत्रिय भी माने जाते हैं तो क्यों ना खटीक समाज भी सेना में "खटीक रेजिमेंट" की मांग करें। अगर सरकार जाति आधारित रेजिमेंट नहीं दे सकती तो मौजूदा जितनी भी जाति आधारित रेजिमेंट बनी हुई हैं उनको तुरन्त समाप्त किया जाए।

मेरे हिसाब से तो जाति आधारित रेजिमेंट होनी ही नहीं चाहिये क्योंकि इससे ऊंची जातियों में घमंड की भावना आती है जिससे छुआछूत को बढ़ावा मिलता है। अच्छा तो यही होगा कि सरकार को जाट रेजिमेंट, राजपूत रेजिमेंट आदि को खत्म कर देना चाहिए। अगर सरकार इनके दबाव के कारण इनको खत्म नहीं कर पा रही है तो खटीक रेजिमेंट भी होनी ही चाहिए।

सेना में “राजपूत रेजिमेंट” है तो फिर “चमार, खटिक रेजिमेंट” क्यों नहीं- उदित राज

नई दिल्ली। लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान भारतीय जनता पार्टी के सांसद उदित राज ने सरकार से सवाल किया कि जब भारतीय सेना में राजपूत रेजिमेंट हो सकता है तो चमार रेजिमेंट, खटिक रेजिमेंट और वाल्मीकि रेजिडेंट क्यों नहीं हो सकता है। उदित राज ने कहा कि चमार रेजिंडेंट का खत्म कर दिया गया था। इसके पीछे तर्क दिया गया था कि जाति के आधार पर रेजिमेंट नहीं बना सकते हैं, तो फिर सरकार ये बताए कि जाति के आधार पर राजपूत रेजिमेंट क्यों है। उन्होंने कहा कि चमार, खटिक और वाल्मीकि रेजिमेंट बनाया जाना चाहिए।

खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति का गौरवशाली इतिहास

हिन्दू खटीक समाज के इतिहास को लेकर अनेक प्रकार की बातें कही जाती हैं। कुछ समाज चिंतकों के अनुसार खटीक जाति क्षत्रिय जाति है तो तो कुछ खटीकों को दलित जाति मानते हैं। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से खटीक समाज के इतिहास सम्बन्धी तथ्यों पर प्रकाश डालेंगे।
खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति के गोत्र (सरनेम)
कौन हैं खटीक?खटीक भारत का एक मूल समुदाय यानि जाति है जो वर्तमान में अनुसूचित जाति के अंतर्गत वर्गीकृत की गई है। जिनकी संख्या लगभग 1.7 मिलियन है। भारत में यह उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़, पश्चिम बंगाल, बिहार और गुजरात में बसे हुए हैं। तथा व्यापक रूप से उत्तर भारत में बसा हुआ है।
प्रत्येक खटीक उपजाति का अपना मूल मिथक है, वे ऐतिहासिक रूप से क्षत्रिय थे जिन्हें राजाओं द्वारा यज्ञ में पशुओं की बलि करने का कार्य सौंपा गया था। आज भी हिंदू मंदिरों में बलि के दौरान जानवरों को वध करने का अधिकार केवल खटीकों को ही है।

खटीक समाज की पुस्तक  खटीक जाति - आखेटक  प्राप्त करें। 

खटीक समाज की एक परंपरा के अनुसार खटिक शब्द का उद्गम हिंदी …