Skip to main content

क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के हेड कांस्टेबल सुरेश चावला दिल्ली में सम्मानित हुए

टोंक| हेड कांस्टेबल सुरेश चावला को सम्मानित करते नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो के होम सेकेट्री आॅफ इण्डिया राजीव...

Tonk - head constable chawla honored in delhi on better working in cctns
खटीक महासंघ टोंक | हेड कांस्टेबल सुरेश चावला को सम्मानित करते नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो के होम सेकेट्री आॅफ इण्डिया राजीव गुबा।

टोंक |नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो की ओर से एसपी ऑफिस टोंक के डिस्ट्रिक क्राइम रिकार्ड ब्यूरो एवं साइबर सेल में कार्यरत हैड कांस्टेबल सुरेश चावला का सम्मान किया गया। 
चावला को क्राइम क्रिमिनल ट्रेकिंग नेटवर्क सिस्टम (सीसीटीएनएस) में अच्छा कार्य करने पर प्रथम स्थान के लिए चयनित करते हुए दिल्ली में एनसीआरबी की ओर से होम सेक्रेट्री आफ इण्डिया राजीव गुबा ने प्रमाण पत्र व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। 
इस दौरान आईबी के निदेशक राजीव जैन, एनसीआरबी के निदेशक डॉ. ईश कुमार, जॉइंट सैक्रेटरी पुनिया सलिला आदि मौजूद थे। 
विदित रहे एनसीआरबी चयन कमेटी ने चावला का चयन किया हैं। चावला ने सबसे पहले जिले के सभी थानों में सीसीटीएनएस का प्रभावी उपयोग शुरू कर राज्य में टोंक जिले को प्रथम स्थान दिलाया। 

Comments

Popular posts from this blog

सेना में "खटीक रेजिमेंट" भी होना चाहिए - खटीक महासंघ

जब यादव समाज के लोग सेना में "अहीर रेजिमेंट" बनाने के लिए सरकार पर दबाव बना सकते हैं तो खटीक पीछे क्यों रहें। खटीक भी योद्धा थे यहां तक कि खटीक तो सूर्यवंशी क्षत्रिय भी माने जाते हैं तो क्यों ना खटीक समाज भी सेना में "खटीक रेजिमेंट" की मांग करें। अगर सरकार जाति आधारित रेजिमेंट नहीं दे सकती तो मौजूदा जितनी भी जाति आधारित रेजिमेंट बनी हुई हैं उनको तुरन्त समाप्त किया जाए।

मेरे हिसाब से तो जाति आधारित रेजिमेंट होनी ही नहीं चाहिये क्योंकि इससे ऊंची जातियों में घमंड की भावना आती है जिससे छुआछूत को बढ़ावा मिलता है। अच्छा तो यही होगा कि सरकार को जाट रेजिमेंट, राजपूत रेजिमेंट आदि को खत्म कर देना चाहिए। अगर सरकार इनके दबाव के कारण इनको खत्म नहीं कर पा रही है तो खटीक रेजिमेंट भी होनी ही चाहिए।

सेना में “राजपूत रेजिमेंट” है तो फिर “चमार, खटिक रेजिमेंट” क्यों नहीं- उदित राज

नई दिल्ली। लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान भारतीय जनता पार्टी के सांसद उदित राज ने सरकार से सवाल किया कि जब भारतीय सेना में राजपूत रेजिमेंट हो सकता है तो चमार रेजिमेंट, खटिक रेजिमेंट और वाल्मीकि रेजिडेंट क्यों नहीं हो सकता है। उदित राज ने कहा कि चमार रेजिंडेंट का खत्म कर दिया गया था। इसके पीछे तर्क दिया गया था कि जाति के आधार पर रेजिमेंट नहीं बना सकते हैं, तो फिर सरकार ये बताए कि जाति के आधार पर राजपूत रेजिमेंट क्यों है। उन्होंने कहा कि चमार, खटिक और वाल्मीकि रेजिमेंट बनाया जाना चाहिए।

खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति का गौरवशाली इतिहास

हिन्दू खटीक समाज के इतिहास को लेकर अनेक प्रकार की बातें कही जाती हैं। कुछ समाज चिंतकों के अनुसार खटीक जाति क्षत्रिय जाति है तो तो कुछ खटीकों को दलित जाति मानते हैं। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से खटीक समाज के इतिहास सम्बन्धी तथ्यों पर प्रकाश डालेंगे।
खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति के गोत्र (सरनेम)
कौन हैं खटीक?खटीक भारत का एक मूल समुदाय यानि जाति है जो वर्तमान में अनुसूचित जाति के अंतर्गत वर्गीकृत की गई है। जिनकी संख्या लगभग 1.7 मिलियन है। भारत में यह उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़, पश्चिम बंगाल, बिहार और गुजरात में बसे हुए हैं। तथा व्यापक रूप से उत्तर भारत में बसा हुआ है।
प्रत्येक खटीक उपजाति का अपना मूल मिथक है, वे ऐतिहासिक रूप से क्षत्रिय थे जिन्हें राजाओं द्वारा यज्ञ में पशुओं की बलि करने का कार्य सौंपा गया था। आज भी हिंदू मंदिरों में बलि के दौरान जानवरों को वध करने का अधिकार केवल खटीकों को ही है।

खटीक समाज की पुस्तक  खटीक जाति - आखेटक  प्राप्त करें। 

खटीक समाज की एक परंपरा के अनुसार खटिक शब्द का उद्गम हिंदी …