Skip to main content

खटीक ही क्यों करते हैं काली की पूजा? झांसी की काली माता।

खटीक महासंघ | “महाकाली उत्सव” खटीक समाज का प्रमुख त्योहार है इस दिन खटीक समाज द्वारा बकरों की बलि और महाकाली की पूजा और विसर्जन किया जाता है।

झांसी और कलकत्ते में खटिकयाने का ‘महाकाली उत्सव’ काफी प्रसिद्ध है। हर साल दशहरे के दिन यहां लाखों लोग महाकाली उत्सव के दर्शन करने के लिए देश के कोने कोने से सम्मिलित होते हैं।

आपको जानकर हैरानी होगी कि कलकत्ते और झांसी के खटिकयाने में “महाकाली उत्सव” के दौरान खटीक समाज द्वारा 1 ही दिन में लगभग 1100 बकरों की बलि दी जाती है। माना जाता है कि यहां जो मांगों वही मिलता है फिर मनोकामना पूरी होने पर बकरे की बलि चढ़ाई जाती है।

काली माता के विसर्जन के साथ खटीक समाज विजयदशमी को शस्त्र पूजन का आयोजन करते हैं परंतु इतिहास के जानकार व्यक्तियों द्वारा गुमराह कर हमें अपने पथ से विमुख कर दिया आप सभी से विशेष आग्रह है कि क्षत्रियों की निशानी शस्त्र होते हैं और विजयदशमी के दिन शस्त्रों की पूजा अवश्य करनी चाहिए।

खटीक ही क्यों करते हैं काली की पूजा?
खटीक समाज के लोग प्राचीनकाल में शिकार करके अपना पेट भरते थे शिकार करने को आखेट भी कहते हैं और शिकारी को आखेटक। इसलिए धीरे धीरे हमारा नाम आखेटक से खटीक हो गया।
हम जंगली जानवरों का शिकार करते अपना पेट भरते और हिरनों का शिकार करके उनकी छालों को रंगकर बेचते थे।
राजा महाराजा हमारी बहादुरी और शिकार कौशल से वाकिफ थे इसलिए वे आखेटकों को अपने साथ शिकार पर ले जाया करते थे, इससे वे निडर होकर शिकार करते थे। जब कोई विदेशी हमारे राजा के राज्य पर आक्रमण करता था तो आखेटक ही अपने राजा की मदद करते थे चूंकि वे शस्त्र कौशल में निपुण होते थे इसलिए जीतते भी थे।
वनों के नष्ट होने से हमने जंगली जानवरों का शिकार करना तो छोड़ दिया लेकिन उस समय हमें कोई काम नहीं आता था इसलिए हम भेड़ बकरियों को पालने का काम करने लगे। राजा की सेना के लिए मांस की आपूर्ति आखेटक ही करते थे। चूंकि जीव हत्या पाप होता है इसलिए हम पहले काली माता के चरणों में बलि देकर उन्हें प्रसन्न करते थे।
जब कभी हमारी भेड़ बकरियों में महामारी फैलती थी तो हम काली माता के आगे बलि चढ़ाते थे तो महामारी रुक जाती थी और हमारा नुकसान होने से बच जाता था।
भेड़ बकरियां चराते चराते हम दूर तक निकल जाते थे इस तरह हम पूरे भारत में फैल गए। हमारे पास हजारों भेड़ हो जाती थीं जिनके बाल बेचकर, और भेड़ बकरियों का मांस बेचकर हम धनवान होते गए जिसके कारण हममें अकड़ आती गई।

यज्ञ आदि में खटीक ही बलि देने का कार्य करते थे, काली के मंदिर में खटीक ही पुजारी होता है। राजा महाराजाओं के साथ रहते रहते हम उनके गुणों को अपनाते रहे और धीरे धीरे खुद को क्षत्रिय ही मानने लगे

Comments

Popular posts from this blog

सेना में "खटीक रेजिमेंट" भी होना चाहिए - खटीक महासंघ

जब यादव समाज के लोग सेना में "अहीर रेजिमेंट" बनाने के लिए सरकार पर दबाव बना सकते हैं तो खटीक पीछे क्यों रहें। खटीक भी योद्धा थे यहां तक कि खटीक तो सूर्यवंशी क्षत्रिय भी माने जाते हैं तो क्यों ना खटीक समाज भी सेना में "खटीक रेजिमेंट" की मांग करें। अगर सरकार जाति आधारित रेजिमेंट नहीं दे सकती तो मौजूदा जितनी भी जाति आधारित रेजिमेंट बनी हुई हैं उनको तुरन्त समाप्त किया जाए।

मेरे हिसाब से तो जाति आधारित रेजिमेंट होनी ही नहीं चाहिये क्योंकि इससे ऊंची जातियों में घमंड की भावना आती है जिससे छुआछूत को बढ़ावा मिलता है। अच्छा तो यही होगा कि सरकार को जाट रेजिमेंट, राजपूत रेजिमेंट आदि को खत्म कर देना चाहिए। अगर सरकार इनके दबाव के कारण इनको खत्म नहीं कर पा रही है तो खटीक रेजिमेंट भी होनी ही चाहिए।

सेना में “राजपूत रेजिमेंट” है तो फिर “चमार, खटिक रेजिमेंट” क्यों नहीं- उदित राज

नई दिल्ली। लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान भारतीय जनता पार्टी के सांसद उदित राज ने सरकार से सवाल किया कि जब भारतीय सेना में राजपूत रेजिमेंट हो सकता है तो चमार रेजिमेंट, खटिक रेजिमेंट और वाल्मीकि रेजिडेंट क्यों नहीं हो सकता है। उदित राज ने कहा कि चमार रेजिंडेंट का खत्म कर दिया गया था। इसके पीछे तर्क दिया गया था कि जाति के आधार पर रेजिमेंट नहीं बना सकते हैं, तो फिर सरकार ये बताए कि जाति के आधार पर राजपूत रेजिमेंट क्यों है। उन्होंने कहा कि चमार, खटिक और वाल्मीकि रेजिमेंट बनाया जाना चाहिए।

खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति का गौरवशाली इतिहास

हिन्दू खटीक समाज के इतिहास को लेकर अनेक प्रकार की बातें कही जाती हैं। कुछ समाज चिंतकों के अनुसार खटीक जाति क्षत्रिय जाति है तो तो कुछ खटीकों को दलित जाति मानते हैं। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से खटीक समाज के इतिहास सम्बन्धी तथ्यों पर प्रकाश डालेंगे।
खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति के गोत्र (सरनेम)
कौन हैं खटीक?खटीक भारत का एक मूल समुदाय यानि जाति है जो वर्तमान में अनुसूचित जाति के अंतर्गत वर्गीकृत की गई है। जिनकी संख्या लगभग 1.7 मिलियन है। भारत में यह उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़, पश्चिम बंगाल, बिहार और गुजरात में बसे हुए हैं। तथा व्यापक रूप से उत्तर भारत में बसा हुआ है।
प्रत्येक खटीक उपजाति का अपना मूल मिथक है, वे ऐतिहासिक रूप से क्षत्रिय थे जिन्हें राजाओं द्वारा यज्ञ में पशुओं की बलि करने का कार्य सौंपा गया था। आज भी हिंदू मंदिरों में बलि के दौरान जानवरों को वध करने का अधिकार केवल खटीकों को ही है।

खटीक समाज की पुस्तक  खटीक जाति - आखेटक  प्राप्त करें। 

खटीक समाज की एक परंपरा के अनुसार खटिक शब्द का उद्गम हिंदी …