Skip to main content

बहादुरी की मिशाल पेश करने वाले सोहन लाल राजोरा जी की बहादुरी को सलाम

खटीक समाज के बहादुर शेर सोहन लाल राजोरा कांस्टेबल दिल्ली पुलिस

बहादुरी की मिशाल पेश करने वाले सोहन लाल राजोरा जी की बहादुरी को सलाम।

ये है घायल कांस्टेबल #सोहन_लाल जी, जो  भरतपुर राजस्थान के रहने वाले हैं और नेब सराय थाना में पदस्थापित है। 25 दिसम्बर, मंगलवार के दिन शाम को ड्यूटी खत्म कर वह वापस अपने घर लौट रहे थे, इसी दौरान दक्षिणपुरी लोहार चौक के पास उसने देखा कि आरोपी जुबेर चाकू दिखा एक युवक की पिटाई करते हुए उसे लूटने की कोशिश कर रहा है। वर्दी में वहां पहुंचे सोहन लाल को देख पीडि़त भाग कर उसके पास पहुंच गया और उससे सहायता मांगी। जब सोहन उसे पकडऩे आगे बढ़ा तो आरोपी ने उसपर ही चाकू से हमला कर दिया और ताबड़तोड़ वार करने लगा। ये वार उसके  सिर, गला और कान पर लगे। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया, इसका फायदा उठा आरोपी वहां से फरार हो गया।

#घायल कांस्टेबल सोहन ने किसी तरह स्थानीय थाना अंबेडकर नगर में तैनात अपनी पहचान के एक कांस्टेबल लखन को फोन कर घटना की जानकारी दी। तत्काल मौके पर पहुंची पुलिस की टीम सोहन को एम्स ट्रामा सेंटर ले गई, जहां उसका इलाज चल रहा है। इधर तत्काल कई टीमें बना कर आरोपी की तलाश शुरू की गई और इलाके से ही हमलावर दबोच लिया गया। उसके पास से हमले में उपयोग किया गया चाकू भी बरामद हुआ है। आरोपी पहले से ही इलाके का घोषित बदमाश है।

कांस्टेबल सोहन की बहादुरी से हम सब को अन्याय के खिलाफ लड़ने की प्रेरणा लेनी चाहिए और ऐसे बदमाशो से पीड़ित लोगो की मदद करनी चाहिए।

सोर्स: रवि सूर्यवंशी खटीक द्वारा फेसबुक पर शेयर की गई

Comments

Popular posts from this blog

सेना में "खटीक रेजिमेंट" भी होना चाहिए - खटीक महासंघ

जब यादव समाज के लोग सेना में "अहीर रेजिमेंट" बनाने के लिए सरकार पर दबाव बना सकते हैं तो खटीक पीछे क्यों रहें। खटीक भी योद्धा थे यहां तक कि खटीक तो सूर्यवंशी क्षत्रिय भी माने जाते हैं तो क्यों ना खटीक समाज भी सेना में "खटीक रेजिमेंट" की मांग करें। अगर सरकार जाति आधारित रेजिमेंट नहीं दे सकती तो मौजूदा जितनी भी जाति आधारित रेजिमेंट बनी हुई हैं उनको तुरन्त समाप्त किया जाए।

मेरे हिसाब से तो जाति आधारित रेजिमेंट होनी ही नहीं चाहिये क्योंकि इससे ऊंची जातियों में घमंड की भावना आती है जिससे छुआछूत को बढ़ावा मिलता है। अच्छा तो यही होगा कि सरकार को जाट रेजिमेंट, राजपूत रेजिमेंट आदि को खत्म कर देना चाहिए। अगर सरकार इनके दबाव के कारण इनको खत्म नहीं कर पा रही है तो खटीक रेजिमेंट भी होनी ही चाहिए।

सेना में “राजपूत रेजिमेंट” है तो फिर “चमार, खटिक रेजिमेंट” क्यों नहीं- उदित राज

नई दिल्ली। लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान भारतीय जनता पार्टी के सांसद उदित राज ने सरकार से सवाल किया कि जब भारतीय सेना में राजपूत रेजिमेंट हो सकता है तो चमार रेजिमेंट, खटिक रेजिमेंट और वाल्मीकि रेजिडेंट क्यों नहीं हो सकता है। उदित राज ने कहा कि चमार रेजिंडेंट का खत्म कर दिया गया था। इसके पीछे तर्क दिया गया था कि जाति के आधार पर रेजिमेंट नहीं बना सकते हैं, तो फिर सरकार ये बताए कि जाति के आधार पर राजपूत रेजिमेंट क्यों है। उन्होंने कहा कि चमार, खटिक और वाल्मीकि रेजिमेंट बनाया जाना चाहिए।

खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति का गौरवशाली इतिहास

हिन्दू खटीक समाज के इतिहास को लेकर अनेक प्रकार की बातें कही जाती हैं। कुछ समाज चिंतकों के अनुसार खटीक जाति क्षत्रिय जाति है तो तो कुछ खटीकों को दलित जाति मानते हैं। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से खटीक समाज के इतिहास सम्बन्धी तथ्यों पर प्रकाश डालेंगे।
खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति के गोत्र (सरनेम)
कौन हैं खटीक?खटीक भारत का एक मूल समुदाय यानि जाति है जो वर्तमान में अनुसूचित जाति के अंतर्गत वर्गीकृत की गई है। जिनकी संख्या लगभग 1.7 मिलियन है। भारत में यह उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़, पश्चिम बंगाल, बिहार और गुजरात में बसे हुए हैं। तथा व्यापक रूप से उत्तर भारत में बसा हुआ है।
प्रत्येक खटीक उपजाति का अपना मूल मिथक है, वे ऐतिहासिक रूप से क्षत्रिय थे जिन्हें राजाओं द्वारा यज्ञ में पशुओं की बलि करने का कार्य सौंपा गया था। आज भी हिंदू मंदिरों में बलि के दौरान जानवरों को वध करने का अधिकार केवल खटीकों को ही है।

खटीक समाज की पुस्तक  खटीक जाति - आखेटक  प्राप्त करें। 

खटीक समाज की एक परंपरा के अनुसार खटिक शब्द का उद्गम हिंदी …