Skip to main content

अधिकार पाने के लिए महिलाओ को आंदोलित होना होगा - ठगेला

आल इंडिया खटीक फेडरेशन व् अन्य संगठनों ने मिलकर शिक्षा की देवी सावित्री बाई फुले का जन्म दिवस के अवसर पर 03 जनवरी 2019 को 21वी सदी में सदी में भी महिलाओ पर अत्याचार क्यों ? और महिलाओ का विकास कैसे हो? पर चिंतन सम्मेलन दिल्ली के होमगार्ड हेडक्वार्टर्स, राजा गार्डन उर्मिला मालावालिया, अध्यक्ष फेडेरेशन व् पूर्व पार्षद की अध्यक्षता में हुआ।

कार्यकर्म में सबसे पहले समाज के पहले और अब तक के मुख्यमंत्री महामहिम जग्गंनाथ पहाड़िया जी के कनिष्ठ पुत्र संजय पहाड़िया को श्रदांजलि देते हुए दिवंगत आत्मा को शान्ति मिले ऐसी प्राथना की।

कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए श्रीमती मंजू बाला, अध्यक्ष MTNL sc /st एसोसिएशन ने सावित्री बाई फुले की जीवनी पर प्रकाश डालते हुए बताया की किन परिस्थितियों में उन्होंने शिक्षा प्राप्त की और फिर शिक्षा देने के लिए अनेक विद्यालयों को शुरू किया। श्री राजेंदर खितौलिया, अध्यक्ष फेडरेशन ने बताया की उन्होंने विरोध की परवाह ना करते हुए शुद्रो को पढ़ाया। श्री शिव  सूर्यवंशी, एडिटर सुरवंशी चेतना पत्रिका ने समाज में आपसी मतभेद पर गहरी चिंता व्यक्त की।

श्रीमती कमला दायमा, सचिव आल इंडिया खटीक फेडरेशन (महिला विंग) कहा की माताओ का दायित्व है कि वो बच्चो को पढ़ाने के लिए पूरा ध्यान दे उनका होम वर्क करवाएं और उनके बस्तो को देखा करे। श्री सुनील, DSO ने माँ व् शिक्षिका बच्चो पढ़ाने के लिए टेक्निक सीखे। मोबाइल में इसलिए खोता हे क्योकि वहा मनोजनक तरीके से चीजे दर्शाई है।

श्रीमती मंजू गौतम, अध्यक्ष (महिला विंग दिल्ली प्रदेश ) आल इंडिया फोरम फॉर सोशल एक्विअलिटी ने कहा की महिलाओ अधिकार दिलाने में उनके जीवन साथी का महत्वपूर्ण स्थान होता हे। श्रीमती मोनिका ठगेला, प्रोफेसर मैनेजमेंट कहा की महिलाओ की आबादी के हिसाब से भागेदारी आवश्यक हे, महिला को बराबरी देने मात्र से काम नहीं होगा उसे इक्विटी देनी होगी।

मुख्य अतिथि श्री नेतराम ठगेला ने कहा की हमें देखना चाहिए अपने सामाजिक दायित्व को पूरा करने के लिए उन्होंने अपमान सहकर भी महिलाओ व् शुद्रो को पढ़ाया।

श्री ठगेला ने महिलाओ से दूसरे से बुराई में समय बर्बाद ना करके पॉजिटिव सोच बनाकर अपने को आर्थिक तोर पर शशक्त बनाने पर जोर देने का आग्रह किया /इसके लिए सरकारी नीटी पर प्रकाश डालते हुए कहा हमें सूक्ष्म उद्योगों का मनन करना चाहिए। श्री मामचंद रिवारिअ जी के धन्यवाद प्रस्ताव के साथ कार्यकर्म संपन्न हुआ।

Comments

Popular posts from this blog

सेना में "खटीक रेजिमेंट" भी होना चाहिए - खटीक महासंघ

जब यादव समाज के लोग सेना में "अहीर रेजिमेंट" बनाने के लिए सरकार पर दबाव बना सकते हैं तो खटीक पीछे क्यों रहें। खटीक भी योद्धा थे यहां तक कि खटीक तो सूर्यवंशी क्षत्रिय भी माने जाते हैं तो क्यों ना खटीक समाज भी सेना में "खटीक रेजिमेंट" की मांग करें। अगर सरकार जाति आधारित रेजिमेंट नहीं दे सकती तो मौजूदा जितनी भी जाति आधारित रेजिमेंट बनी हुई हैं उनको तुरन्त समाप्त किया जाए।

मेरे हिसाब से तो जाति आधारित रेजिमेंट होनी ही नहीं चाहिये क्योंकि इससे ऊंची जातियों में घमंड की भावना आती है जिससे छुआछूत को बढ़ावा मिलता है। अच्छा तो यही होगा कि सरकार को जाट रेजिमेंट, राजपूत रेजिमेंट आदि को खत्म कर देना चाहिए। अगर सरकार इनके दबाव के कारण इनको खत्म नहीं कर पा रही है तो खटीक रेजिमेंट भी होनी ही चाहिए।

सेना में “राजपूत रेजिमेंट” है तो फिर “चमार, खटिक रेजिमेंट” क्यों नहीं- उदित राज

नई दिल्ली। लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान भारतीय जनता पार्टी के सांसद उदित राज ने सरकार से सवाल किया कि जब भारतीय सेना में राजपूत रेजिमेंट हो सकता है तो चमार रेजिमेंट, खटिक रेजिमेंट और वाल्मीकि रेजिडेंट क्यों नहीं हो सकता है। उदित राज ने कहा कि चमार रेजिंडेंट का खत्म कर दिया गया था। इसके पीछे तर्क दिया गया था कि जाति के आधार पर रेजिमेंट नहीं बना सकते हैं, तो फिर सरकार ये बताए कि जाति के आधार पर राजपूत रेजिमेंट क्यों है। उन्होंने कहा कि चमार, खटिक और वाल्मीकि रेजिमेंट बनाया जाना चाहिए।

खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति का गौरवशाली इतिहास

हिन्दू खटीक समाज के इतिहास को लेकर अनेक प्रकार की बातें कही जाती हैं। कुछ समाज चिंतकों के अनुसार खटीक जाति क्षत्रिय जाति है तो तो कुछ खटीकों को दलित जाति मानते हैं। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से खटीक समाज के इतिहास सम्बन्धी तथ्यों पर प्रकाश डालेंगे।
खटीक समाज – हिन्दू खटीक जाति के गोत्र (सरनेम)
कौन हैं खटीक?खटीक भारत का एक मूल समुदाय यानि जाति है जो वर्तमान में अनुसूचित जाति के अंतर्गत वर्गीकृत की गई है। जिनकी संख्या लगभग 1.7 मिलियन है। भारत में यह उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़, पश्चिम बंगाल, बिहार और गुजरात में बसे हुए हैं। तथा व्यापक रूप से उत्तर भारत में बसा हुआ है।
प्रत्येक खटीक उपजाति का अपना मूल मिथक है, वे ऐतिहासिक रूप से क्षत्रिय थे जिन्हें राजाओं द्वारा यज्ञ में पशुओं की बलि करने का कार्य सौंपा गया था। आज भी हिंदू मंदिरों में बलि के दौरान जानवरों को वध करने का अधिकार केवल खटीकों को ही है।

खटीक समाज की पुस्तक  खटीक जाति - आखेटक  प्राप्त करें। 

खटीक समाज की एक परंपरा के अनुसार खटिक शब्द का उद्गम हिंदी …